मर्दों को ये 5 काम करने में शर्म नहीं करना चाहिए : Chanakya Niti

माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति आचार्य चाणक्य की बातों का अनुसरण कर ले, तो वह जिंदगी में कभी असफल नहीं होता। अपने नीति शास्त्र में चाणक्य जी ने कुछ ऐसे लोगों को जिक्र किया है, जो अपने हाथों से अपने भविष्य को बर्बाद कर देते हैं।

आचार्य चाणक्य अपनी नीतियों को लेकर दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं। आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों के बल पर ना सिर्फ नंद वंश का नाश किया बल्कि चंद्रगुप्त मौर्य को सम्राट बनाने में भी अहम भूमिका निभाई। चाणक्य जी ने हर परिस्थिति में चंद्रगुप्त मौर्य का मार्गदर्शन किया। आचार्य चाणक्य को राजनीति के साथ-साथ अर्थशास्त्र, समाज शास्त्र और कूटनीति समेत समाज के लगभग हर विषयों की गहराई से समझ थी। चाणक्य जी ने एक नीति शास्त्र की रचना भी की है, जिसमें उन्होंने लोगों को सुखी जीवन जीने के लिए कुछ नीतियां सुझाई हैं।

चाणक्य जी का मानना है कि आलसी व्यक्ति को अपने काम की कोई चिंता नहीं होती और वह हर काम को कल पर टाल देता है। उसे सिर्फ आराम करने से मतलब होता है। ऐसा व्यक्ति दिनभर केवल आलस में ही चूर होता है और उसे कोई काम करना पसंद नही होता। इसलिए आलस्य ना सिर्फ वर्तमान को खराब कर देता है बल्कि यह भविष्य के लिए भी संकट से कम नहीं है। इसलिए आलस्य का त्याग करके ही भविष्य को संवारा जा सकता है।